बंसत पंचमी पर 14 साल बाद सुखमय दांपत्य का सर्वार्थसिद्धि योग

Uncategorized

वसंत पंचमी पर 14 साल बाद सुखमय दांपत्य जीवन का सर्वार्थसिद्धि योग आ रहा है। इस दिन अभिजीत मुहूर्त में साढ़े आठ रेखा के श्रेष्ठ लग्न हैं। गोधूलि बेला व मध्यरात्रि में पूजा के लग्न भी शुभ बताए जा रहे हैं। ऐसे में सुबह से रात्रि तक विवाह होंगे। गृह प्रवेश, गृह आरंभ, नवीन प्रतिष्ठान के शुभारंभ, सोने चांदी की खरीदी के लिए भी दिन श्रेष्ठ है। ज्योतिषाचार्य पं. अमर डब्बावाला के अनुसार नक्षत्र मेखला की गणना से माघ मास के शुक्ल पक्ष की वसंत पंचमी 30 जनवरी को गुरुवार के दिन उत्तरा भाद्रपद उपरांत रेवती नक्षत्र की साक्षी में आ रही है। साथ ही सिद्ध योग व मीन राशि के चंद्रमा की साक्षी भी रहेगी। गुरुवार के दिन रेवती नक्षत्र होने से सर्वार्थसिद्धि योग का निर्माण होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *